Breaking News

जब फेरी लगाते -लगाते रेड लाइट एरिया में पहुंचा गया शख्स, वहां नजर आई बहन और फिर…

रेड लाइट एरिया के बारे में तो हर कोई जानता ही होगा इसे हम वेश्यालय भी कहते हैं. हम यहां बात कर रहे हैं एक ऐसे रेड लाइट एरिया के बारे में जहां पर एक फेरी लगाने वाला शख्स फेरी लगाते-लगाते एक रेड लाइट एरिया में पहुंच गया, जहां पर बहुत सारी वेश्याओं को देख कर वो चौंक गया, लेकिन तभी उसकी नजर एक ऐसी लड़की पर पड़ी जिसे देखकर वह सन्न रह गया. जो कि रिश्ते में उसकी बहन थी आइये जानते हैं यह लड़की यहां पर कैसे पहुंची..

दरअसल जब यह फेरी वाला रेड लाइट एरिया में पहुंचा तो वहां उसकी नजर चार साल से गायब हुई उसके दोस्त की बहन पर पड़ी थी जिसे देखकर उसके पैरों के नीचे से जमीन खिसक गई. वह दोनों ही एक -दूसरे की तरफ लगातार देख रहे थे.जब उन्होंने एक-दूसरे को पहचान लिया तो वह उसके नजदीक आई और उसने यहां आने की अपनी दुख भरी कहानी बताई.

खबर के अनुसार फेरी वाले ने इस मामले के जानकारी पुलिस को जाकर दी तो लड़की से पुछताछ में पता चला कि तीन साल पहले उसे एक हरियाणा की महिला ने शादी का झांसा देकर किशनगंज के चकलाघर में बेच दिया था.बाद में वहां से लाकर शोक खलीफा के यहां फिर से बेच दिया गया। यहां उसका जबरदस्ती देह व्यापार कराया गया.

एक और लड़की को कराया था मुक्त

 

इसी लड़की के साथ एक और लड़की यहां मौजूद थी जो कि रेड लाइट एरिया में फंसी हुई थी उसने कहा कि वह झारखंड के गुमला जिले की रहने वाली है। जो कि पिछले दस साल से इन वेश्याओं  के साथ फंसी हुई है। अब देह व्यपार करते -करते उसके एक बच्चा भी हो गया. वह भी किसी औरत के हाथ नौकरी दिलाने के चक्कर में यहां बेच दी गई थी.

पुलिस के अनुसार मिली जानकारी में पता चला कि अब इन दोंनो लड़कियों को वेश्यावृत्ति के इस गंदे दलदल से बाहर निकाल लिया है.यहां दोंनो लड़कियां अशोक खलिफा और नसीमा खातून नाम के कोठे से बरामद की गई है.कहा जाता है कि करीब 11 बजे पुलिस यहां पहुंची और फिर अशोक खलिफा के  कोठे पर सर्च अभियान किया.जिसके बाद इन दोंनो लड़कियों को निकाला गया और कोठे के मालिक अशोक खलीफा की पत्नी नसीमा खातून तथा उसके बेटे राहुल को गिरफ्तार कर लिया।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.